logo

नूंह में एक किसान कर रहा है तुर्की के बाजरे की खेती, इस पौधे की लंबाई है 14 फुट और 5 फुट की है बाली।

 | 
Haryana News

हरियाणा के नूंह जिले में एक किसान तुर्की से ऑनलाइन बाजरे का बीज मंगवा कर खेती कर रहा है। साथ ही इस बाजरे के पौधे की लंबाई और बाली की लंबाई भारतीय बाजरे के पौधे की लंबाई और बाली की लंबाई से भी 2 गुना अधिक है।

नूंह। आपको बता दे कि हरियाणा के नूंह में एक किसान तुर्की बाजरे की खेती कर रहा है। आपको बता दे कि नूंह जिले के झिमरावट गांव के एक किसान तुर्की से बाजरे का बीज मंगवा कर खेती कर रहा है। साथ ही किसान ने तुर्की से ऑनलाइन बाजरे के बीज का पैकेट तकरीबन 700 रूपए में मंगवाया है और इस बाजरे के बीज से एक शानदार फसल खड़ी हुई है। जोकि पूरे देशभर के किसानों के आकर्षण का केंद्र बनी हुई है। और साथ ही इस बाजरे के पौधे की लंबाई लगभग 14 फुट है।

साथ ही साथ इस बाजरे के पौधा में लगभग 5 फुट की बाली भी है। हम सभी जानते है कि बाजरे में एक-दो फुट की ही बाली आती है। लेकिन इस बाजरे के पौधे की लंबाई और बाली की लंबाई के बारे में सुनकर हर कोई हैरान हैं। साथ ही किसान इस बाजरे की फसल को देखने के लिए बड़ी संख्या में पहुंच रहे हैं। आपको बता दे कि एक किसान के बेटे तासिम ने पढ़ाई का फायदा उठाते हुए तुर्की से ऑनलाइन बाजरे का बीज मंगवाया था और किसान ने एक किला पट्टे पर लेकर उसमें बाजरे की बिजाई की थी। कम बारिश के बावजूद भी 1 किले में बाजरे का काफी अच्छा उत्पादन होने की उम्मीद है और खास बात ये है कि बाजरे की लंबाई अधिक होने से पशुओं के लिए भी चारा पर्याप्त होगा।

अब बस इस बाजरे की फसल पकने को है। उसके बाद ही एक किले में कितना उत्पादन होगा इसका आंकलन किया जा सकता है। अपनी फसल को देखकर किसान काफी खुश है। और किसान का कहना है कि अगर अच्छी पैदावार होती है तो इस किस्म के बाजरे की अगले साल और भी ज्यादा खेती की जाएगी।

किसानों का कहना है कि कई पीढ़ियों ने भी बाजरे की ऐसी खेती नही देखी होगी और केंद्र सरकार ने इस बार बाजरे का एमएसपी 2350 रुपये प्रति क्विंटल निर्धारित की है

सरकारी योजनाएं

सक्सेस स्टोरी