logo

हरियाणा के नूंह में 10 करोड़ की लागत से खुलेगा प्याज का एक उत्कृष्ट केंद्र, जहां पर 180 किस्म की होगी खेती।

हरियाणा राज्य के नूंह जिले के पिनगवां में प्याज का एक उत्कृष्ट केंद्र खोला जाएगा। जिसके लिए सरकार ने मंजूरी भी दे दी है। इस केंद्र को 55 एकड़ जमीन पर करीब 10 करोड़ रुपये की लागत के साथ बनाया जायेगा और साथ ही यहां पर विशेष तौर पर प्याज की 180 किस्मो की खेती भी की जाएगी।
 | 
Haryana News

नूंह (हरियाणा)। हरियाणा राज्य के नूंह जिले की करीब 90 फीसदी आबादी कृषि पर आधारित है। और अब जिले के किसानों का रूख बागवानी की तरफ भी बढ़ने लगा है। जिसके तहत हरियाणा सरकार ने पिनगवां में 55 एकड़ जमीन पर करीब 10 करोड़ रुपये की लागत लगाकर बरसाती प्याज का एक उत्कृष्ट केंद्र खोलने की मंजूरी भी दी है। साथ ही साथ विभाग ने 55 एकड़ की जमीन की चार दिवारी करने का टेंडर भी दे दिया है। जिसकी खुद राजस्व विभाग के अधिकारियों ने निशान देई की है।

जिला के बागवानी अधिकारी दीन मोहम्मद ने बताया है कि नूंह के किसानों की आमदनी बढ़ाने और उनको फल, सब्जी, बाग से जोड़ने के लिए सरकार एक अच्छा काम कर रही है। साथ ही उन्होंने बताया कि पिनगवां में बागवानी विभाग की 55 एकड़ जमीन है। जिनमें से कई एकड़ में पहले से ही बेर का बाग लगा हुआ है और उन्होंने बताया कि सरकार ने यहां पर बरसाती प्याज का एक उत्कृष्ट केंद्र खोलने की भी मंजूरी दी है।

इस उत्कृष्ट केंद्र को खोलने में लगभग दस करोड़ रुपये का खर्चा आएगा। साथ ही इस केंद्र में प्याज की 180 अलग-अलग किस्में भी उगाई जाएंगी। इसके साथ ही यहां दो तालाब भी बनाए जाएंगे। जिसमें की करीब 5 किलोमीटर दूर गांव फलैंडी के पास उजीना नहर में बोर से पाईप लाईनों के जरिए पानी लाया जाएगा। और इसमें करीब 45 लाख का खर्चा आएगा।
साथ ही बागवानी अधिकारी ने ये भी बताया कि खजूर, अनार, अमरूद और पपीता की अच्छी नस्लें भी तैयार की जाएगी और साथ ही उन्होंने बताया नूंह के अधिकतर गांवों का पानी खारा है और यहां पर ऐसी सब्जी और फलों की नस्ल तैयार की जाएगी, जिनकी खारे पानी से भी अच्छी पैदावार हो सके। 
बागवानी अधिकारी मोहम्मद ने ये भी बताया कि फिलहाल 55 एकड़ जमीन की चारदीवारी का दो करोड़ 64 रुपये का टेंडर दे दिया गया है। और इस पर कार्य भी शुरू हो गया है। और यहां पर 12वीं पास युवाओं के लिए एक ट्रेनिंग सेंटर भी खोला जाएगा। जिसमे सभी छात्रों को माली आदि का डिपलोमा भी दिया जाएगा। जिससे की नूंह के युवा दिल्ली, गुरुग्राम, फरीदाबाद में आसानी से नौकरी हासिल कर सकेंगे। साथ ही डेढ़ साल में ये प्रोजेक्ट बनकर तैयार हो जाएगा।

सरकारी योजनाएं

सक्सेस स्टोरी