logo

Vastu Tips: जूते-चप्पल भूल कर भी ना रखें घर में, नहीं तो कंगाल कर देगी ये गलती

Vastu Tips: गलत दिशा में जूते-चप्‍पल रखने से आपकी कड़ी मेहनत पर पानी फिर जाती है और आपको सफलता नहीं पाने देंते. साथ ही ये धन हानि करवाकर व्‍यक्ति को कंगाल बना सकते हैं. इससे मां लक्ष्‍मी भी नाराज ...
 | 
T

Vastu Tips: वास्तु शास्त्र घर की हर चीजों और घर की हर दिशा को लेकर अहम माना जाता है. ऐसे में यदि गलत दिशा में गलत चीज रख दी जाए तो उसका अशुभ प्रभाव पड़ता है. जिससे आपके करियर, आर्थिक स्थिति, सेहत, मैरिड लाइफ आदि सभी पहलुओं पर पड़ता है. इसमें जूते-चप्‍पल भी ऐसी चीज हैं जिनपर हम और आप ज्यादा ध्यान नहीं रखते, लेकिन इन बतों का हमें खास तौर पर ध्यान रखना चाहिए. इसका प्रभाव आपकी आर्थिक स्थिति पर होता है.

मां लक्ष्मी क्यों हो जाती हैं नाराज

हिंदू शास्त्रों के अनुसार वास्‍तु शास्‍त्र (Vastu Shaastra) का असर सीधा आपके जीवन पर पड़ता है. घर की उत्‍तर-पूर्व दिशा में जूते-चप्‍पल रखना बेहद अशुभ होता है. यह दिशा सकारात्‍मकता लाती है, इसलिए यहां कभी भी जूते-चप्पल नहीं रखे जाते हैं. गलत दिशा में जूते चप्पल रखने से मां लक्ष्मी नाराज होती है.

बेडरूम में चप्पल ले जाना है अशुभ

आजतक लोग घर में चप्पल पहन कर घूमते रहते हैं, यहां तक की वो बेडरूम में भी चपल्ल रखते हैं. जिससे आपके घर में नकारात्मका पैदा होती है.

सिरहाने न रखें चप्पल

गलत दिशा में या बेडरूम के सिरहाने चप्पल जूते रखने से वास्तु शास्त्र के अलावा उनकी सेहत पर भी बुरा असर पड़ता है. ऐसा करना बहुत ही अशुभ माना गया है.

नीलें रंग के जूतों का करें इस्तेमाल

जिन लोगों को अपने जीवन में तरक्की नहीं मिल पाती है, उन्हें खासकर नीलें रंग के जूतों का इस्तेमाल मुख्य रूप से देना चाहिए और हमेशा साफ-सुथरे जूते पहनने से कामकाज अच्छा चलता है और सफलता उनके कदम चूमती है.

गंदे जूते-चप्पल ने पहनें

लोग जल्दबाजी में गंदे जूते चप्पल पहन लेते है. जिससे आपकी पर्सनालिटी पर बुरा प्रभाव पड़ता है. इसके साथ ही आपको धन हानि और कंगाली छाने लगती है.

पीले रंग के जूते चप्पल न पहनें

फैशन के युग में लोग किसी भी रंग के जूते-चप्‍पल पहन लेते है. इसके पीछे का वास्तु नहीं समझते. लोगों को ये हमेशा ध्यान में रखना चाहिए कि वो कभी भी पीले रंग के जूते चप्पल न पहनें. ऐसा करने से आपको सौभाग्‍य को दुर्भाग्‍य में बदल सकता है.

सरकारी योजनाएं

सक्सेस स्टोरी