logo

इनेलो की फतेहाबाद रैली में दिखेगी विपक्षी एकता, शामिल होंगे ये दिग्गज नेता

इनेलो 25 सितम्बर को फतेहाबाद में ताऊ देवीलाल के जन्मदिवस को सम्मान दिवस के रूप में मनाने जा रही है। इसके साथ-साथ इनेलो सुप्रीमो इस रैली के माध्यम से विपक्ष को एकजुट करने का प्रयास कर रहे हैं। अनुमान लगाया जा रहा है कि इस रैली में बिहार के मुख्यमंत्री नीतिश कुमार, एनसीपी नेता शरद पवार, शिवसेना से उद्धव ठाकरे, डीएमके की कनिमोझी समेत कई विपक्षी नेता हिस्सा लेंगे। पंजाब से सुखबीर सिंह बादल भी इस रैली का हिस्सा बनेंगे।
 | 
HARYANA NEWS

इनेलो 25 सितम्बर को फतेहाबाद में ताऊ देवीलाल के जन्मदिवस को सम्मान दिवस के रूप में मनाने जा रही है। इसके साथ-साथ इनेलो सुप्रीमो ओमप्रकाश चौटाला इस रैली के माध्यम से विपक्ष को एकजुट करने का प्रयास कर रहे हैं। अनुमान लगाया जा रहा है कि इस रैली में बिहार के मुख्यमंत्री नीतिश कुमार, एनसीपी नेता शरद पवार, शिवसेना से उद्धव ठाकरे, डीएमके की कनिमोझी समेत कई विपक्षी नेता हिस्सा लेंगे। पंजाब से सुखबीर सिंह बादल भी इस रैली का हिस्सा बनेंगे।

इसके अलावा बिहार के उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव, सीपीआईएम से सीताराम येचुरी, फारूक अब्दुल्ला व भाजपा नेता बिरेंद्र सिंह इस रैली में शामिल हो सकते हैं। इनेलो द्वारा इस रैली को सफल बनाने के लिए पूरे प्रयास किए जा रहे हैं।

इतने सारे क्षेत्रीय क्षत्रपों के एक साथ आने को विपक्षी एकजुटता के प्रयास के रूप में देखा जा रहा है। इसे आगे बढ़ाने के लिए रैली के बाद राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद और बिहार के मख्यमंत्री नीतीश कुमार की सोनिया गांधी से भी मुलाकात की संभावना है। त्यागी ने कहा कि यह बैठक ऐतिहासिक होगी जो 2024 के लोकसभा चुनाव से पहले भाजपा के खिलाफ समान विचारधारा वाली ताकतों के एकीकरण को चिह्नित करेगी।  

अपने-अपने राज्यों के दिग्गज नेताओं की एक मंच पर मौजूदगी से गैर भाजपा ताकतों की एकजुटता के प्रयासों को प्रोत्साहन मिलेगा। भाजपा नेतृत्व के साथ बीरेंद्र सिंह के संबंधों में पिछले कुछ समय से खटास आई है। हालांकि उनके बेटे बृजेंद्र सिंह हिसार से पार्टी सांसद हैं।

इनेलो द्वारा पूरी तैयारियां की गई है और अनुमान लगाया इस रैली में लगभग 1 लाख लोग शामिल होंगे। इसके लिए टैंट भी लगाए जा रहे हैं। इनेलो द्वारा इस रैली को कामयाब बनाने के लिए ओमप्रकाश चौटाला के अलावा अभय चौटाला, सुनैना चौटाला व अर्जुन चौटाला प्रचार कर रहे हैं।

सरकारी योजनाएं

सक्सेस स्टोरी