logo

Akshara Singh: जब चुपके-चुपके हाजीपुर सिविल कोर्ट पहुंची अक्षरा सिंह, जानें वजह

 | 
Akshara Singh


पटना :  Akshara Singh got bail: भोजपुरी सिनेमा की सुपरहॉट अभिनेत्री, सिंगर और हमेशा विवादों में रहनेवाली अक्षरा सिंह को कौन नहीं जानता है. उनको चाहनेवालों की तादाद बड़ी है. अक्षरा सिंह सोशल मीडिया पर भी सुर्खियों में रहती हैं और उनके फॉलोवर्स की संख्या बहुत बड़ी है. हाल ही में अक्षरा सिंह को लेकर एक खबर ने खूब सुर्खियां बटोरी, खबर थी की अक्षरा सिंह के पटा के आवास पर नोटिस चस्पा किया गया है और उन्हें अदालत में हाजिर होने को कहा गया है. जिसके बाद हंगामा मच गया. लोगों को लगने लगा कि अक्षरा सिंह किसी मुसीबत में फंस गई हैं. 

अक्षरा सिंह को हाजीपुर सिविल कोर्ट से मिली जमानत 
इस सब के बीच अक्षरा सिंह सोमवार को बिना शेर-शराब के हाजीपुर सिविल कोर्ट पहुंच गई. वह यहां कोर्ट के सामने पेश हुईं. जहां जमानती धाराओं को ध्यान में रखते हुए अदालत ने उन्हें राहत दी और उन्हें अग्रिम जमानत दे दी. बता दें कि 10 नवंबर को वैशाली जिले के अंदर पड़नेवाले लालगंज थाना पुलिस ने अक्षरा सिंह के पटना स्थित आवास पर नोटिस चस्पा किया था.अक्षरा ने तब कहा था कि वह अपराधी नहीं हैं ना हीं कहीं भागी हैं हां, उनको इस केस की ज्यादा जानकारी नहीं हैं. 

कोर्ट परिसर में अक्षरा के होने की भनक तक मीडिया को नहीं लगी
भोजपुरी एक्ट्रेस के पटना स्थित आवास पर नोटिस चस्पा किए जाने के बाद एक पुलिस टीम उनकी गिरफ्तारी के लिए मुंबई भी रवाना हो गई थी लेकिन इस सब के बीच अक्षरा सिंह सोमवार को चुपचाप हाजीपुर सिविल कोर्ट में पेश हो गईं जहां से उन्हें जमानत मिल गई और मुंबई जा रही पुलिस की टीम को रास्ते से ही वापस लौटना पड़ रहा है. मीडिया को भी अक्षरा के यहां होने की भनक नहीं लगी और जबतक ये खबर फैली अक्षरा कोर्ट से जमानत लेकर कोर्ट परिसर से निकल गई थीं. 

ये है पूरा मामला 
दरअसल मामला कोरोना काल के दौरान है. पूरे देश में कोरोना को लेकर पाबंदी लगी थी लेकिन वैशाली के लालगंज में पूर्व विधायक मुन्ना शुक्ला के घर पर एक कार्यक्रम में अक्षरा सिंह अपना परफॉर्मेंस देने पहुंची थी. यहां कार्यक्रम के दौरान पूर्व विधायक के बॉडीगार्ड ने फायरिंग भी की थी, जिसका वीडियो वायरल हो गया था. इसके बाद अक्षरा सिंह और कई अन्य के खिलाफ मामला दर्ज किया गया था. जिसमें अक्षरा सिंह ने अभी तक जमानत नहीं ली थी. 

सरकारी योजनाएं

सक्सेस स्टोरी