logo

हैट्रिक के बारे में सोच रहे थे अर्शदीप सिंह, नेपियर टी20 के बाद खुद किया खुलासा

 | 
 भारतीय टीम


भारतीय टीम ने हार्दिक पांड्या की कप्तानी में तीन मैचों की टी20 सीरीज 1-0 से अपने नाम की. सीरीज का तीसरा और अंतिम टी20 मैच बारिश और खराब मौसम के कारण मंगलवार को पूरा नहीं हो सका और डकवर्थ लुईस नियम से परिणाम टाई रहा.

इस मैच में पेसर अर्शदीप सिंह और मोहम्मद सिराज ने कमाल का प्रदर्शन किया और न्यूजीलैंड के 8 बल्लेबाजों को पवेलियन भेजा. दोनों ने 4-4 विकेट झटके. मैच के बाद दोनों ने मैच के बारे में बात की.

बीसीसीआई ने बुधवार को एक वीडियो शेयर किया जिसमें अर्शदीप सिंह और मोहम्मद सिराज बातचीत कर रहे हैं. इसका एक वीडियो क्लिप सोशल मीडिया पर भी पोस्ट किया गया है. इस दौरान 23 साल के अर्शदीप सिंह ने अपने क्रिकेट करियर की पहली हैट्रिक को लेकर बड़ी बात कही.

दरअसल, 19वें ओवर की पहली गेंद पर बाएं हाथ के तेज गेंदबाज अर्शदीप ने डेरिल मिचेल और दूसरी गेंद पर जेम्स नीशम को शिकार बनाया. उनके पास हैट्रिक का मौका था लेकिन तीसरी गेंद पर एडम मिल्ने रन आउट हुए. इस तरह ओवर की शुरुआती 3 गेंदों पर 3 विकेट तो गिरे लेकिन अर्शदीप के खाते में 2 ही विकेट जुड़ पाए. उन्होंने 4 ओवर के अपने कोटे में 37 रन देकर 4 विकेट लिए.

अर्शदीप सिंह ने कहा, 'हां मैं हैट्रिक के बारे में सोच रहा था. ऐसे में लेंथ या स्लोअर बॉल कारगर हो सकती थी. अगली बार ऐसी कोशिश जरूर करूंगा.' इस मुकाबले में उन्होंने काफी काफी नकल बॉल फेंकी, जिस पर अर्शदीप ने कहा, 'मैं जब से टीम में आया हूं, इतने अच्छे और सीनियर गेंदबाजों से सीखने की लगातार कोशिश करता हूं. भुवनेश्वर कुमार इसका बहुत इस्तेमाल करते हैं. मैं आपसे (मोहम्मद सिराज) हार्ड लेंथ पर गेंद डालना सीख रहा हूं.'

वीडियो में पेसर मोहम्मद सिराज ने भी खुद के प्रदर्शन को लेकर बात की. उन्होंने कहा, 'काफी अच्छा लग रहा है. किसी तेज गेंदबाज के लिए इस तरह का प्रदर्शन आत्मविश्वास बढ़ाता है. मैं काफी वक्त से खुद को तैयार कर रहा था.

जब आप अच्छा प्रदर्शन करते हैं तो अंदर से एक अलग ही खुशी मिलती है.' सिराज ने मैच में 4 ओवर में सिर्फ 17 रन दिए और 4 विकेट झटके. वह मैन ऑफ द मैच बने. इस मैच में मेजबान कीवी टीम ने पहले बल्लेबाजी करते हुए 160 रन बनाए. जवाब में भारत ने 9 ओवर में 4 विकेट पर 75 रन बना लिए थे, लेकिन फिर बारिश के कारण खेल आगे नहीं हो पाया.

सरकारी योजनाएं

सक्सेस स्टोरी