logo

Gujarat Election: गुजरात की 12 सीटों पर फंस गया 'पेंच', 'खेला' करने के मूड में दिख रहे बीजेपी के बागी

 | 
भाजपा प्रदेश


Gujarat Assembly Election 2022: गुजरात विधानसभा चुनाव में 12 सीटों पर भारतीय जनता पार्टी (BJP) के बागी नेताओं ने पार्टी को झटका दिया है और निर्दलीय उम्मीदवार के तौर पर नामांकन दाखिल किया है. इसमें छह बार के विधायक मधु श्रीवास्तव और दो पूर्व विधायक शामिल हैं, जो आगामी विधानसभा चुनाव में पार्टी टिकट नहीं दिए जाने से नाराज थे. इसके बाद गुजरात में सत्ताधारी बीजेपी (BJP) एक्शन में आ गई है और 12 नेताओं को पार्टी से निलंबित कर दिया है.


गुजरात की 12 सीटों पर 'खेल' के मूड में BJP के बागी

भाजपा प्रदेश इकाई ने एक विज्ञप्ति जारी कर इसकी जानकारी दी और बताया कि गुजरात भाजपा अध्यक्ष सीआर पाटिल द्वारा 12 नेताओं को निलंबित किया गया है. पार्टी ने बताया कि ये 12 नेता आगामी गुजरात विधानसभा चुनाव के 5 दिसंबर के दूसरे चरण की सीटों पर पार्टी के आधिकारिक उम्मीदवारों के खिलाफ चुनाव लड़ने के लिए नामांकन दाखिल किया है.

बीजेपी ने पहले भी 7 नेताओं को किया था निलंबित

भारतीय जनता पार्टी (BJP) की यह कार्रवाई एक दिसंबर को होने वाले विधानसभा चुनाव के पहले चरण में निर्दलीय उम्मीदवारों के रूप में नामांकन दाखिल करने के लिए सात बीजेपी नेताओं (BJP Leaders) को निलंबित किए जाने के कुछ दिनों बाद की गई है.


दूसरे चरण में 93 सीटों पर होना है मतदान

बता दें कि गुजरात विधानसभा चुनाव के दूसरे चरण में 5 दिसंबर को 93 सीटों पर मतदान होना है और उसके लिए नामांकन वापस लेने की अंतिम तिथि 21 नवंबर थी. लेकिन, 21 नवंबर तक बीजेपी के किसी भी बागी नेता ने अपना नाम वापस नहीं लिया और इसके बाद पार्टी ने एक्शन लेते हुए सभी को निलंबित कर दिया.

बीजेपी ने इन 12 नेताओं को किया निलंबित

नामांकन वापस लेने की आखिरी तारीख निकलने के बाद अब ये सभी 12 नेता अब उत्तर और मध्य गुजरात से बीजेपी उम्मीदवारों के खिलाफ चुनाव लड़ेंगे. इन नेताओं में वाघोडिया (वडोदरा जिले) सीट के मौजूदा विधायक मधु श्रीवास्तव के अलावा पाडरा के पूर्व विधायक दीनू पटेल और बायड के पूर्व विधायक धवलसिंह जाला भी शामिल हैं. इसके अलावा बीजेपी ने कुलदीपसिंह राउल (सावली), खाटूभाई पागी (शेहरा), एस एम खांट (लूनावाडा), जे पी पटेल (लूनावाड़ा), रमेश जाला (उमरेठ), अमरशी जाला (खंभात), रामसिंह ठाकोर (खेरालू), मावजी देसाई (धनेरा) और लेबजी ठाकोर (डीसा निर्वाचन क्षेत्र) को भी निलंबित कर दिया है.


 

सरकारी योजनाएं

सक्सेस स्टोरी