logo

Haryana : यहां हार कर भी जीता सरपंच प्रत्याशी, गांव वालों ने सम्मान समारोह में दिए 2 करोड़ रुपये और नई स्कार्पियो

 | 
Haryana


रोहतक। किसी की जीत पर सम्मान समारोह तो होते देखे हैं, लेकिन हार पर सम्मान समारोह विरला ही देखने को मिलता है। ऐसा ही एक रोचक मामला जिले के लाखनमाजरा खंड के गांच चिड़ी में शुक्रवार को सामने आया। जहां हारे हुए सरपंच पद के प्रत्याशी धर्मपाल उर्फ काला के सम्मान में गांव में समारोह हुआ। समर्थकों ने काला को दो करोड़ 11 लाख रुपये की धनराशि और एक सफेद रंग की स्कार्पियो सम्मान स्वरूप भेंट की। समारोह में सैकड़ों की संख्या में समर्थक एकत्रित हुए, जिसमें महिलाएं भी शामिल थीं। आयोजन समिति में शामिल सावन अहलावत ने बताया कि गांव में हमने 11 सदस्यीय कमेटी बना रखी है। इसी कमेटी ने कार्यक्रम आयोजित किया है। 


लाखनमाजरा ब्लाक की चिड़ी पंचायत में 66 वोट से हारे धर्मपाल उर्फ काला चेयरमैन 


इस कार्यक्रम को आयोजित कराने का यही मकसद था कि धर्मपाल ने पूरा जीवन गांव की भलाई और सामाजिक कार्यों में लगा दिया। अब चुनाव में हार से कहीं हताशा न हो और सामाजिक कार्य निरंतर जारी रहें, इसलिए प्रोत्साहन के लिए नकद राशि व गाड़ी दी गई है। उधर, नवनिर्वाचित सरपंच नवीन दलाल का कहना है कि गाम-राम ने उनको निर्वाचित किया है। इस कार्यक्रम के लिए कोई निमंत्रण उसे नहीं मिला। बता दें कि सरपंच पद के लिए बीते 12 नवंबर को चुनाव हुआ था। सरपंच पद के प्रत्याशी नवीन दलाल और धर्मपाल उर्फ काला चेयरमैन के बीच कड़ा मुकाबला हुआ। नवीन को 3061 और काला चेयरमैन को 2995 वोट मिले, जिसमें नवीन दलाल की 66 वोट से जीत हुई। 

गरीब बेटियों की शादी, फीस, स्कूल ड्रेस तक उपलब्ध कराएंगे 

11 सदस्यीय कमेटी में शामिल नरेश, विकास, बिजेंद्र, पवन कुमार, विक्की आदि ने बताया कि संबंधित सम्मान राशि गरीबों बेटियों की शादी के लिए खर्च होगी। इसके साथ ही गरीब बच्चों की स्कूल की ड्रेस व दूसरे सामाजिक कार्यों पर खर्च होगा। । इसके साथ ही किसी जरूरतमंद को किसी भी आपात स्थिति में आर्थिक मदद भी की जाएगी। यहां सरपंच पद का चुनाव नवीन जीते हैं। 

ब्लाक समिति के रह चुके हैं चेयरमैन, चाची सरपंच 

धर्मपाल लाखनमाजरा ब्लाक समिति के चेयरमैन रह चुके हैं। वर्ष 2022 से 2005 तक इनका कार्यकाल रहा। इसी तरह से धर्मपाल की चाची नथिया भी सरपंच रह चुकी हैं। ग्रामीणों का तर्क है कि दिन-रात धर्मपाल समाज की सेवा में जुटे रहते हैं। 

नवनिर्वाचित सरपंच नहीं हुए शामिल, बोले- निमंत्रण ही नहीं दिया गया 

संबंधित कार्यक्रम के लिए मुझे कोई निमंत्रण नहीं मिला। मैं शहर नहीं रहता, गांव में ही रहता हूं। यदि मैं रोहतक में रहता तो चंद दिन पहले मुझे लोग क्यों जिताते। मैं इससे अधिक कुछ भी नहीं कहूंगा। 

गांव निवासी के अनुसार 

संबंधित कार्यक्रम इसलिए किया गया है कि बेशक सरपंच का चुनाव हार गए हों, लेकिन सामाजिक कार्य बंद नहीं होने चाहिए। पंचायत की तरफ से नवनिर्वाचित सरपंच नवीन को कार्यक्रम के लिए बुलावा दिया गया था। लेकिन सरपंच क्यों नहीं आए यह वही जानते होंगे। 

सरकारी योजनाएं

सक्सेस स्टोरी