logo

चेहरा पर आएगा नेचुरल ग्लो, अगर हफ्ते में 1 बार व्रत रखे

अगर आप तन और मन को दुरुस्‍त और उम्र से 10 साल जवां दिखना चाहती हैं तो हफ्ते में 1 बार व्रत जरूर करें। 
 | 
5

इस बात से इंकार नहीं किया जा सकता है कि जवां और ग्‍लोइंग त्वचा आपको और ज्‍यादा सुंदर बनाती है। कोई फर्क नहीं पड़ता कि आप कितने महंगे ट्रीटमेंट और कॉस्‍मेटिक का इस्‍तेमाल करती हैं, हेल्‍दी ग्‍लोइंग त्वचा की तुलना में कुछ भी शाइनी नहीं होता है। वास्तव में, एक हेल्‍दी शरीर ही हमें सुंदर बनाता है।

हालांकि, हम अक्सर अपनी हेल्‍थ की अनदेखी कर देते हैं लेकिन हमारा चेहरा हमारे आंतरिक स्वास्थ्य का एक मात्र प्रतिबिंब होता है। सरल शब्दों में, हम वही हैं जो हम खाते हैं और हमारी त्वचा हमारी हेल्‍थ का आईना है और हमारा मेटाबॉलिज्म हेल्‍दी और जवां त्वचा का आधार होता है।

लेकिन जब आप फास्टिंग करना शुरू करते हैं तो क्या होता है? क्या यह आपकी त्वचा को प्रभावित करता है और क्‍या यह स्किन एजिंग को कम करता है? इसके बारे में और जानने के लिए इस आर्टिकल को जरूर पढ़ें!

सरल शब्दों में, फास्टिंग और हेल्‍दी खाने से शरीर को एक हेल्‍दी संतुलन बनाए रखने में मदद मिलती है, जो आगे चलकर मेटाबॉलिज्‍म को मजबूत करता है, जिससे इम्‍यूनिटी में और सुधार होता है। और एंटीऑक्सीडेंट के लेवल में वृद्धि से त्वचा हेल्‍दी होती है और त्वचा की एजिंग में कमी आती है। 

जी हां, फास्टिंग के बाद स्वस्थ भोजन का सेवन त्वचा की उम्र बढ़ने को कम करता है। इसलिए, सही अंतराल पर खाना और स्वस्थ खाना स्वस्थ त्वचा की कुंजी है। शरीर को हेल्‍दी और त्‍वचा को जवां बनाए रखने वाली फास्टिंग की जानकारी आयुर्वेदिक एक्‍सपर्ट डॉक्‍टर चेताली जी ने अपने इंस्‍टाग्राम के माध्‍यम से शेयर की है।

आयुर्वेदिक उपचार के रूप में फास्टिंग

आयुर्वेद में फास्टिंग को उपवास कहा जाता है, उपवास एक प्रकार का उपचार है जिसे लंघन कहा जाता है। लंघन के 10 अलग-अलग प्रकार होते हैं और उनमें से एक उपवास है।

 

फास्टिंग स्वयं को शुद्ध करने का एक उत्कृष्ट तरीका है। इसके आध्यात्मिक, मानसिक और शारीरिक लाभ मिलते हैं।

 

फास्टिंग कैसे करें?

यह चुनने के लिए कि आपके लिए किस प्रकार की फास्टिंग सबसे अच्छी है, यह निम्‍न बातों पर निर्भर करता है- 

  • आपकी मानसिक शक्ति और इच्छा शक्ति
  • आपके पेट की ताकत
  • शरीर में कोई दोष 
  • आपके खाने-पीने की आदतें

फास्टिंग कितने प्रकार की होती हैं?

fasting benefits for body

ड्राई फास्टिंग - इसमें पानी और भोजन से परहेज करना होता है। यह कफ प्रधान लोगों के लिए बहुत अच्‍छी होती है। 

कंप्‍लीट फास्टिंग- न भोजन और न पानी

स्किपिग फास्टिंग- भोजन एक या दो बार करना। नाश्ता या रात का खाना या दोनों छोड़ना। 

इंटरमिटेंट फास्टिंग- 16 घंटे फास्टिंग 8 घंटे भोजन करना या इसे एक्‍सपर्ट द्वारा संकेत के अनुसार समायोजित किया जा सकता है।

वाटर फास्टिंग- दिन भर में केवल पानी पीना।

जूस फास्टिंग - दिन भर मौसमी फलों का जूस पिएं। (चीनी ना डालें, ज्यादा चीनी खाने से व्रत का अर्थ खत्‍म हो जाएगा)

फलों की फास्टिंग - पूरे दिन केवल फल खाएं।

सब्जियों की फास्टिंग- दिन भर सिर्फ सब्जियां, यह व्रत वात प्रधान लोगों के लिए है जो ज्यादा व्रत नहीं रख सकते हैं। 

चॉकलेट फास्टिंग- चॉकलेट एंटी-ऑक्सीडेंट का समृद्ध स्रोत है, आयरन से भरपूर, शुद्ध कोको कई स्वास्थ्य उद्देश्यों के लिए फायदेमंद है।

सभी बुरी आदतों को छोड़ दें। आप अपने शरीर को साफ करने के लिए फास्टिंग करते हैं, इसलिए फास्टिंग के दिन अपने शरीर में अधिक विषाक्त पदार्थ नहीं डालते हैं।

फास्टिंग का आध्यात्मिक तरीका

fasting benefits

यदि आप ज्योतिष या अंक ज्योतिष में विश्वास रखते हैं तो एक पवित्र दिन (शुभ दिन) चुनना आपको समझ में आ जाएगा।

मैं व्यक्तिगत रूप से एकादशी का व्रत करती हूं - एकादशी के दिन ग्रह एक निश्चित अवस्था में होते हैं, इसलिए यदि हम अपने शरीर को हल्का और उपलब्ध रखेंगे, तो हमारी जागरूकता भीतर की ओर हो जाएगी।

वैज्ञानिक अनुसंधान

फास्टिंग पर बहुत सारे शोध किए गए हैं, यह कैंसर के रोगियों के लिए शानदार और अद्भुत तरीके से काम करती है और मोटापा और हार्मोनल असंतुलन का इलाज करने के लिए यह असाधारण काम करती है।

सरकारी योजनाएं

सक्सेस स्टोरी