logo

अब बिना रोक-टोक के चलाए वाहन, नही भरना होगा कोई Tax शुल्क, ये रहा नया नियम

अगर आप भी सड़कों पर गाड़ी चलाते हैं तो यह खबर आपको खुश कर देगी।गाड़ी को सड़क पर चलाने के लिए कई सारे नियम कानून बनाए गए हैं। बिना इंश्योरेंस के गाड़ी सड़क पर नहीं चला सकते हैं। ठीक उसी प्रकार आरसी ट्रांसफर कराए बिना अन्य राज्य में गाड़ी नहीं चला सकते हैं।
 | 
4

अगर आप भी सड़कों पर गाड़ी चलाते हैं तो यह खबर आपको खुश कर देगी।गाड़ी को सड़क पर चलाने के लिए कई सारे नियम कानून बनाए गए हैं। बिना इंश्योरेंस के गाड़ी सड़क पर नहीं चला सकते हैं। ठीक उसी प्रकार आरसी ट्रांसफर कराए बिना अन्य राज्य में गाड़ी नहीं चला सकते हैं। दरअसल किसी दूसरे राज्य में गाड़ी चलाने के लिए आरसी ट्रांसफर कराना आवश्यक है। लकिन अब नए नियम के तहत अब दिल्ली NCR में टैक्‍सी या ऑटो बगैर सर्विस टैक्स दिए फर्राटा भर सकेंगे। वो भी बिना टेक्स दिये। जिससे वाहनों से व्यापार करने वाले लोगों को काफी हद तक फायदा मिल जाएगा। अगर आप भी सड़कों पर गाड़ी चलाते हैं तो यह खबर आपको खुश कर देगी।बता दे की अब चालकों को दिल्ली, हरियाणा, राजस्थान में कहीं कोई टेक्स देने की जरूरत नहीं पड़ेगी। दिल्ली सरकार ने इसके लिए नए नियम लागू कर दिये हैं।

यही नहीं दिल्ली से सटे राज्यों के साथ सिंगल प्वाइंट समझौते पर भी हस्ताक्षर कर दिए हैं। नए नियम के तहत अब दिल्ली NCR में टैक्‍सी या ऑटो बगैर सर्विस टैक्स दिए फर्राटा भर सकेंगे। वो भी बिना टेक्स दिये। जिससे वाहनों से व्यापार करने वाले लोगों को काफी हद तक फायदा मिल जाएगा। दरअसल, अभी तक किसी भी राज्य में प्रवेश करने पर उस राज्य का सर्विस टेक्स देना होता है। जिसका एक बड़ा बजट वाहन संचालक के पॅाकेट से जाता है। इससे समय के साथ-साथ पैसों की भी बर्बादी होती है। लेकिन, अब नई व्यवस्था में आम लोगों पर इसका कोई असर नहीं पड़ेगा।

हालांकि एक अनुमान के अनुसार इससे 100 करोड़ रुपये की सालाना राजस्व हानि होगी। लेकिन समझौते पर हस्ताक्षर होने के बाद लोगों को किसी भी राज्य का सर्विस टेक्स भरने की कोई जरूरत नहीं होगा। अब आप बिना रोक-टोक किसी भी राज्य में अपना वाहन लेकर व्यापार कर सकते हैं। आपको बता दें कि इस संबंध में नोटिफिकेशन भी जारी कर दिया गया है। इस समझौते से बस, टैक्सी, ऑटो और शैक्षणिक संस्थानों के वाहनों को रोड टैक्स समेत अन्य टैक्स में राहत मिली है। यह जानकारी पाठकों की डिमांड पर तैयार की गई है। इसका किसी व्यक्ति विशेष से कोई संबंध नहीं है।

सरकारी योजनाएं

सक्सेस स्टोरी