logo

एक रुपये में टी-शर्ट और 5 रुपये में पैंट, दिल्ली के इस इलाके में रात में ही लग जाती है यह मार्केट

 | 
टी-शर्ट


नई दिल्ली: दिल्ली में कपड़ों का एक ऐसा मार्केट जब लोग सोकर उठे भी नहीं होते हैं तब से शुरू हो जाता है। इस बाजार में एक रुपये में टी शर्ट, दस रुपये में पैंट और 20 रुपये में साड़ी मिल जाएगी। दिल्ली के रघुवीर नगर का यह बाजार जिसे घोड़ा मंडी के नाम से भी जाना जाता है। जैसे ही सुबह होती है यहां कपड़ों का ढेर लग जाता है। इस मार्केट में रोजाना 800-1500 लोग कपड़े बेचने आते हैं। इस बाजार में कपड़े कहां से आते हैं और उन्हें कौन खरीदता है इसको लेकर लोगों की उत्सुकता बढ़ जाती है।

सुबह होने से पहले मार्केट में कारोबार हो जाता है शुरू
सुबह होने से पहले 40 वर्षीय विजय पश्चिमी दिल्ली के रघुबीर नगर की घोड़ा मंडी में कपड़ों के ढेर को छांटने में व्यस्त हैं। वह अपने साधारण मोबाइल फोन की मंद रोशनी में कपड़ों को फोल्ड करते हुए शर्ट, पैंट, बच्चों के कपड़े, स्वेटर, साड़ी, कुर्तियों के अलग-अलग बंडल बनाते हैं। विजय का कहना है कि हम पुराने कपड़े व्यापारियों को बेचते हैं, जो उन्हें देश भर के पिस्सू बाजारों और कारखानों में फेरीवालों को सप्लाई करते हैं। यहां एक बच्चे की टी-शर्ट 1 रुपये में, एक बड़े आदमी की शर्ट 5 रुपये में, पैंट 10 रुपये में, साड़ियां 20 रुपये से लेकर 60 रुपये में मिल जाएंगी।

वाघिरी समुदाय के एक सदस्य, जो दिल्ली भर में पुराने कपड़ों के लिए घरेलू बर्तनों की अदला-बदली के लिए जाने जाते हैं। विजय ने कहा कि वाघिरी के रूप में घोड़ा मंडी में कपड़े बेचना उनका पुश्तैनी पारिवारिक काम रहा है। घोड़ा मंडी, जिसे घोड़े वाला मंदिर के पास स्थित होने के कारण कहा जाता है, सुबह 4 बजे से 9.30 बजे तक यहां हलचल रहती है। अधिकांश विक्रेता वाघिरी समुदाय के सदस्य हैं, जो दिल्ली और पड़ोसी जिलों की कॉलोनियों से एकत्र किए गए पुराने कपड़ों को यहां लाते हैं।

दूसरे मार्केट में यहां से जाता है कपड़ा
इनमें से कुछ कपड़ों को बाजार में लाने से पहले धोते, रंगते या इस्त्री करते हैं। मार्केट में मौजूद हीरा लाल ने बताया कि कोई भी यह नहीं कह सकता कि ये उनकी गुणवत्ता के कारण पुराने परिधान हैं। पैसे वाले लोग नए फैशन के चलते कपड़े जल्द छोड़ देते हैं। इस मंडी से भी लोग कपड़े ले जाकर तिलक नगर के मंगल बाजार सहित दूसरे बाजारों में बेचते हैं। दो दशकों से अधिक समय से घोड़ा मंडी से पुराने कपड़े खरीद रहे लाल ने बताया कि उनके ग्राहक ज्यादातर गरीब मजदूर थे, जो नए स्टाइल के सस्ते कपड़े चाहते थे।

कपड़ों के रीसायकल हब के तौर पर भी इस मार्केट को जाना जाता है। गरीबों को सस्ते कपड़े देने के साथ ही टनों पुराने कपड़ों को लैंडफिल में खत्म होने से भी यह मार्केट रोकता है। स्टॉक कभी लंबे समय तक नहीं चलते हैं। 20 रुपये में स्वेटर, 60 रुपये में लहंगा और 150 रुपये में एक कोट बेचने वाली शोभा ने बताया कि कम कीमत की वजह से हर तरह के कपड़े आसानी से बिक जाते हैं। अंकुर कुमार, जिन्होंने 15 जींस की खरीदारी की और कहा कि हम यहां 50 रुपये की जींस खरीदते हैं और उन्हें हरिद्वार के व्यापारियों को 120 रुपये में बेचते हैं।

बड़ी कॉलोनियों में जाना हुआ मुश्किल
व्यापार के बाद, 50 वर्षीय लक्ष्मी सुबह 11 बजे के आसपास कपड़े के लिए बर्तनों की अदला-बदली करने के लिए निकल जाती हैं। लक्ष्मी ने कहा, दिल्ली की गेट वाली कॉलोनियों में, सुरक्षा गार्ड हमें प्रवेश नहीं करने देते। हालांकि हम कई सालों से इस व्यवसाय में हैं, हम धीरे-धीरे बड़ी कॉलोनियों तक पहुंच खो रहे हैं। पांच बच्चों की मां रेखा ने कहा महामारी के दौरान, हम दान पर जीवित रहे। रेखा ने बताया कि व्यापारियों के साथ कड़ी सौदेबाजी करनी पड़ती है, खासकर अगर वे परिधान में दोष देखते हैं। बेशक, सभी व्यापारी सबसे सस्ती कीमत पर कपड़े चाहते हैं। इसलिए, अगर थोड़ा भी फटा या छेद दिखा तो कीमतें आधी हो जाती हैं।

यहां दूसरे खरीदार भी पहुंचते हैं जिन्हें कपड़े पहनने के लिए नहीं चाहिए। प्लंबर को अपने काम में कपड़े की पट्टियों की आवश्यकता होती है। मशीनों की सफाई के लिए चिथड़े की आवश्यकता होती है। फर्नीचर पॉलिश करने के लिए। इस मार्केट में पहुंचे एक शख्स ने बताया कि मैं हर दिन 1-2 रुपये प्रति पीस के हिसाब से 300-400 टुकड़े खरीदता हूं और उन्हें देश भर के कारखानों में आपूर्ति करता हूं। प्रत्येक टुकड़े पर लगभग 25 पैसे कमाते हैं। कपड़े के अलावा, दूरबीन, मोबाइल चार्जर, इंडक्शन कुकटॉप, केटल, जूते, वाईफाई राउटर और अन्य सामान भी घोड़ा मंडी में मिल जाते हैं।
 

सरकारी योजनाएं

सक्सेस स्टोरी