nigamratejob-logo

Government Scheme: बेटियों के लिए अच्छी खबर,नई योजना की घोषणा, सरकार बेटियों को दे रही 80 हजार रुपए, जल्दी उठाए लाभ

 | 
Government Scheme

देशभर की महिलाओं और बेटियों के लिए एक बड़ी खुशखबरी है। केंद्र व राज्य सरकार द्वारा बेटियों को लेकर कई महत्वपूर्ण योजनाएं चलाई जा रही हैं। अब अगर आपके घर में बेटी है तो आपको 5000 रुपये मिलेंगे। इसके साथ ही जब आपकी बेटी 18 साल की हो जाएगी तो सरकार आपको 75,000 रुपये देगी। आइए आपको बताते हैं कि सरकार की इस योजना का लाभ किसे मिलेगा।

पूरे 75,000 रुपये मिलेंगे

महाराष्ट्र सरकार द्वारा राज्य की बेटियों के लिए एक विशेष योजना शुरू की गई है। इस योजना में बेटी को 75,000 रुपये की आर्थिक सहायता मिलेगी। महाराष्ट्र सरकार ने वित्तीय वर्ष 2023-24 के बजट में लीकी गर्ल (लाडली लड़की) योजना शुरू करने की घोषणा की है। इसमें बेटी के जन्म के बाद 18 साल तक आर्थिक सहायता मिलेगी।

कैसे मिलेगी आर्थिक मदद-
 
लाडली झील योजना के तहत बेटी के जन्म पर 5000 रुपये की पूरी सहायता दी जाएगी।

इसके बाद जब आपकी बेटी प्रथम श्रेणी में होगी तब उसे 4000 रुपये मिलेंगे।

 वहीं जब आपकी बेटी छठी क्लास में होगी तो उसे 6000 रुपये मिलेंगे।

11वीं में 8000 रुपए दिए जाएंगे।
 
जब वह 18 साल की हो जाएगी तो उसे महाराष्ट्र सरकार की ओर से 75,000 रुपये मिलेंगे।

किसे मिलेगा लाभ?

आपको बता दें कि महाराष्ट्र सरकार की इस योजना का लाभ सिर्फ उन्हीं लोगों को मिलेगा जिनके पास नीले और नारंगी रंग का राशन कार्ड होगा। सरकार बेटियों की पढ़ाई के लिए यह आर्थिक मदद दे रही है। इसमें बालिका के जन्म से 18 वर्ष की आयु तक राज्य सरकार से आर्थिक सहायता प्राप्त हो रही है।

क्या है योजना की खासियत-

योजना के तहत कन्या का जन्म सरकारी अस्पताल में होना चाहिए।

  महाराष्ट्र राज्य के मूल निवासी परिवार ही महाराष्ट्र सरकार की इस योजना का लाभ लेने के पात्र होंगे।

योजना का लाभ लेने के लिए बालिका के माता-पिता के पास बैंक खाता होना जरूरी है।

किन दस्तावेजों की जरूरत है

आपको बता दें कि इस योजना का लाभ लेने के लिए आपके पास माता-पिता का आधार कार्ड, बालिका का जन्म प्रमाण पत्र, पीला और नारंगी रंग का राशन कार्ड, आय प्रमाण पत्र, जाति प्रमाण पत्र, निवास प्रमाण पत्र, मोबाइल नंबर, बैंक होना जरूरी है। खाता पासबुक। की आवश्यकता होगी। पासपोर्ट साइज फोटो होना चाहिए।

सरकारी योजनाएं

सक्सेस स्टोरी