logo

Success Story : हरियाणा की बेटी ने रचा इतिहास, मंजू नैन बनी देश की पहली महिला सोल्जर स्काई डाइवर

 | 
Success Story


जींद :- हरियाणा की बेटियां जहां खेलों में अपनी प्रतिभा का लोहा मनवा रही हैं , वहीं अब सेना में जाकर एडवेंचर Sprots में भी प्रदेश का नाम चमका रही हैं. Jind जिला के गांव धमतान साहिब की मंजू नैन ने जो साहस का परिचय दिया है उसकी युवा भी हिम्मत करने से डरते हैं. 

सेना की पूर्वी कमान ने जारी किया वीडियो 

हाल ही में सेना की पूर्वी कमान ने अपनी तरफ से एक वीडियो जारी किया है जिसमे सेना की एक जाबांज महिला सैनिक 10 हजार स्काई फीट की ऊंचाई से छलांग लगाती दिखाई दे रही है. दरअसल यह सैनिक मंजू नैन है जो गांव धमतान साहिब की रहने वाली है और उसने चौधरी भरतसिंह मेमोरियल खेल स्कुल निडानी (जींद) में पढ़ाई की है. 

महिलाएं किसी क्षेत्र में पुरुषों से कम नहीं 

मंजू कबड्डी की भी बेहतरीन खिलाडी रही है. संस्था की चेयरपर्सन कृष्णा मलिक के अनुसार मंजू ने अपनी काबिलियत के दम पर सेना में भर्ती होकर आज अपने देश और प्रदेश के लिए मिशाल क़ायम की है. लांस नायक मंजू ने एएलएच ध्रुव हेलिकॉप्टर से 10 हजार स्काई फीट की ऊंचाई से छलांग लगाकर Army की पहली महिला सोल्जर स्काई डाइवर बनकर यह साबित कर दिया की महिलाएं किसी क्षेत्र में पुरुषों से कम नहीं है. 

भारतीय Army की पूर्वी कमान ने जारी किया वीडियो 

उन्होंने बताया कि मंजू का एक वीडियो भारतीय सेना की पूर्वी कमान ने जारी किया गया है. हालांकि मंजू ने यह कारनामा 15 नंवबर 2022 को किया था परन्तु सेना ने यह जानकारी गत दिवस ही साझा की है. इस Video में मंजू सेना के एएलएच ध्रुव हेलिकॉप्टर में सवार हैं और बाद में वो छलांग लगा देती हैं. इसके बाद वो हवा में तैरती हुई नजर आती हैं. हवा में तैरती मंजू का पैराशूट उनके साथ कूदे दो ट्रेनर खोलते हैं. 

महिला सैनिक मंजू ने रचा इतिहास  

संस्था के संरक्षक पूर्व डीजीपी डॉ. महेन्द्र सिंह मलिक ने बताया की भारतीय सेना की महिला सैनिक मंजू ने इतिहास रचा है. उन्होंने कहा कि वे मंजू के इस कारनामे और जज्बे को हम सलाम करते हैं और उन्हें बधाई भी देते हैं. उन्होंने बताया कि 27 नवंबर को स्कूल में एक कार्यक्रम में उनको सम्मानित किया जायेगा. उन्होंने यह भी बताया कि हमें जल्द ही खेल स्कुल निडानी में पढ़ने वाले छात्र-छात्राओं को सेना में लेफ्टिनेट बनने के लिए एन डी ए का प्रशिक्षण दिया जाएगा. 


 

सरकारी योजनाएं

सक्सेस स्टोरी