logo

Success Story: अनपढ मां के दो बेटों ने एक साथ पास की UPSC परीक्षा, जानें उनके सफलता की कहानी

 | 
UPSC SUCCESS STORY

UPSC SUCCESS STORY: संघ लोक सेवा आयोग (UPSC) के सिविल सेवा परीक्षा 2021 (CSE) के फाइनल नतीजों में राजस्थान के दो सगे भाइयों ने भी सफलता के झंडे गाड़े हैं। दोनों का एक साथ सिविल सेवा में चयन हुआ है। इनकी कामयाबी पर पूरे गांव में खुशी की लहर है। डीजे पर लोग जमकर नाचे।

हम बात कर रहे हैं कि राजस्थान के नागौर जिले के भांवता गांव के कनवाड़िया परिवार की। यहां के हीरालाल कनवाड़िया नागौर के इंदोखा गांव की सरकारी स्कूल के प्रधानाचार्य हैं। इनके बड़े बेटे कृष्णकांत कनवाड़िया और छोटे बेटे राहुल कनवाड़िया ने UPSC क्रैक की है।

UPSC SUCCESS STORY

कृष्णकांत को 382वीं और राहुल को 536वीं रैंक

बता दें कि कृष्णकांत कनवाड़िया और राहुल कनवाड़िया दोनों डॉक्टर हैं। सिविल सेवा परीक्षा 2021 में कृष्णकांत को 382वीं और राहुल को 536वीं रैंक प्राप्त हुई है। कृष्णकांत ने अपने चौथे अटेम्प्ट में और राहुल ने दूसरे अटेम्प्ट में इस एग्जाम को क्लियर किया है।

UPSC SUCCESS STORY

कोटा से की एमबीबीएस

मीडिया से बातचीत में पिता हीरालाल कनवाड़िया ने बताया कि दोनों बेटों की प्राथमिक शिक्षा गांव में ही हुई है। दोनों ही कोटा में MBBS करके डॉक्टर बने और फिर यूपीएससी की तैयारी करने दिल्ली चले गए।

UPSC SUCCESS STORY

मां अनपढ़, बेटे आईएएस

कृष्णकांत कनवाड़िया और राहुल कनवाड़िया की मां पार्वती देवी कहती हैं कि वो अनपढ़ रही। इसका उन्हें मलाल है, मगर दोनों बेटों के स्कूल की ओर बढ़ते कदम कभी नहीं रोके। अब दोनों बेटे आईएएस अफसर बन गए। मेरा वर्षों पुराना ख्वाब पूरा हो गया। पार्वती की बेटी भी डॉक्टर है।

सरकारी योजनाएं

सक्सेस स्टोरी