logo

Success story: हरियाणा की इस IAS अफसर ने 8वीं क्लास में ही तय कर लिया था कि आईएएस बनना, अब ऑन द स्पॉट फैसला लेने के लिए जानी जाती है यह अफसर

 | 
SUCCESS STORY

DM Isha Duhan: आईएएस अफसर बनने का सपना पढ़ाई करने वाले हर स्टूडेंट का होता है. आज हम आपको एक ऐसी ही आईएएस की कहानी बताने जा रहे हैं जिन्होंने 8वीं क्लास में ही तय कर लिया था कि उन्हें आईएएस बनना है. हाल ही में वह इसलिए चर्चा में आई हैं क्योंकि उन्होंने संपूर्ण समाधान दिवस में आने वाले फरियादियों की समस्याओं का ऑन द स्पॉट समाधान किया. चलिए जानते हैं कौन हैं डीएम ईशा दुहन.

DM ISHA DUHAN

ईशा दुहन हरियाणा के पंचकुला की रहने वाली है. ईशा ने 8वीं क्लास में ही तय कर लिया था कि उन्हें आईएएस बनना है, आईएएस बनने के लिए उन्होंने ग्रेजुएशन में ही यूपीएससी की तैयारी करनी शुरू कर दी थी. ईशा दुहन बायोटेक्नोलॉजी में ग्रेजुएट हैं.

DM ISHA DUHAN

यूपीएससी की तैयारी के लिए ईशा मॉर्निंग में 5:30 बजे से अपनी क्लास अटेंड करती थीं. यूपीएससी की क्लास के बाद वह यूनिवर्सिटी की क्लास जाती थीं.

DM ISHA DUHAN

ईशा 2014 बैच की आईएएस अफसर हैं. ईशा दुहन को चंदौली की डीएम हैं. इससे पहले वह मजिस्ट्रेट के पद पर रहीं हैं. इतना ही नहीं ईशा दुहन फरवरी 2021 से वाराणसी विकास प्राधिकरण में उपाध्यक्ष रहीं.

DM ISHA DUHAN

कुछ समय बाद IAS ईशा को लगा कि उन्हें पहले अपने कॉलेज की पढ़ाई पूरी करनी लेनी चाहिए. इसके बाद यूपीएससी की तैयारी करें. उन्होंने अपनी पढ़ाई खत्म करने के यूपीएससी की तैयारी करने के लिए दिल्ली आ गईं. 

DM ISHA DUHAN

डीएम ईशा दुहन ने 10 मामलों में ऐसा किया. डीएम ने 10 प्रकरण में पुलिस और राजस्व की टीम को मौके पर भेजकर मामलों का तुरंत निस्तारण कराया. इसके साथ ही उन्होंने निर्देश भी दिए कि सभी मामलों का निस्तारण समय सीमा के भीतर किया जाए. 

सरकारी योजनाएं

सक्सेस स्टोरी